Skip to content

Mental health during Corona Virus

फिजिकल हेल्थ के बारे में तो सब जानते है पर क्या आप मेन्टल हेल्थ के बारे में जानते हैं ?

कोरोना वाइरस के दौर में मानसिक बीमारियां औऱ भी ज्यादा बढ़ गई हैं । ऐसा नही है कि ये मानसिक बीमारी बस कोरोना के मरीजों को ही हो रही हैं बल्कि जो मरीज कोरोना को हरा कर घर आ चुके हैं वो भी औऱ जिनको कोरोना हुआ भी नही है वो लोग भी मासिक बीमारी के शिकार हो गए हैं । 

मानसिक स्वास्थ्य के एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में लगभग 450 मिलियन लोग मानसिक बीमारी से ग्रस्त हैं जो कि 4 लोगो मे से 1 के बराबर है । जिनमे से लगभग 400 मिलियन लोग ऐसे हैं जिनको सही उपचार नही मिला । WHO के एक रिपोर्ट के अनुसार मानसिक बीमारी दुनिया भर के कुल रोगों की स्थितियों का लगभग 15% है । भारत मे भी ये मानसिक बीमारी के कई मामले देखने को मिले हैं । 

मानसिक बीमारी की शुरुआत कैसे होती हैं और इसका कारण क्या है ? 

साधारण भाषा मे कहे तो मानसिक बीमारी स्ट्रेस , डिप्रेशन औऱ एंग्जायटी से जुड़ी होती हैं । ये सब चीज़े बाहर से देखने मे बिल्कुल नार्मल लगती हैं , आप भी कहेंगे कि ये सब तो आम हैं पर जब ये चीज़े बढ़ जाती हैं तो मानसिक बीमारी का रूप ले लेती हैं और व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार हो जाता है। ये बीमारी हर वर्ग और हर उम्र के लोगो में देखी जा सकती हैं ।

तो क्या है इन मानसिक बीमारी का कारण ? इसका कोई एक नही कई कारण हो सकते हैं । जैसे :- कम्युनिकेशन गैप्स , स्टडी लोड , जॉब टेंशन औऱ भी बहुत से कारण हैं जिनके वजह से हमारे समाज के युवा मानसिक रोग से ग्रस्त हो जाते हैं । और जब इनको सही से उपचार नही मिलता है तब ये गलत कदम उठा लेते हैं या फिर डिप्रेसन में चले जाते हैं। कभी ये मेन्टल इलनेस इनको आत्महत्या या ड्रग की लत के दरवाजे तक पहुँचा देती हैं ।  ये सब कही न कहीं मेन्टल इलनेस की ही एक कारण है और समय पर सही उपचार न मिलने के कारण ये व्यक्ति को इस स्थिति तक पहुँचा देता हैं।

तो अब हम इस मानसिक बीमारी को दूर करने और इनसे बचने के उपाय के बारे में जानते हैं । ये बहुत आसान है अगर माता पिता अपने बच्चों से हर विषय पर बात करे और उनकी परेशानी समझे , तथा शिक्षा का रूप भी थोड़ा बदले तो ज्यादातर युवा वर्ग इस बीमारी से बच सकता हैं । अगर हम मानसिक बीमारी से ग्रस्त हैं तो इसके बारे में हमे लोगो को बताना चाहिए औऱ डॉक्टर से मिल के इसका सही से उपचार करना चाहिए तथा लोगो को भी मानसिक बीमारी से जुड़ी बातें बता कर हर तरफ अवेयरनेस फैलानी चाहिए क्योंकि कभी कभी ऐसा होता हैं कि हम मानसिक रूप से बीमार होते हैं औऱ हमे पता ही नही चलता है कि हम बीमार हैं । 

औऱ अंत मे हम सबसे यही प्रार्थना करना चाहेंगे कि माँ बाप अपने बच्चे को समझे और बच्चे भी अपने माँ बाप को समझे तथा समाज की ये जो मानसिक बीमारी को लेके गलत अवधारणा हैं इसको बदलने के लिए हमसब को साथ मिलकर आगे आना चाहिए ताकि इस देश से हम ये मानसिक बीमारी को हमेशा हमेशा के लिए दूर कर सके ।

          “NO HEALTH WITHOUT MENTAL HEALTH” 

                                                  धन्यवाद 🙏

-by Jayabala Kushwaha

Leave a Reply

%d bloggers like this: